सम्मान पूर्ण पहचान चाहिए-सुमित बाबा

१)सुमित बाबा काफी दिन बाद आपकी फिल्म ‘सईया भइलन परदेसिया ‘ आ रही है ? इतने दिन आप बिलकुल भोजपुरी फिल्मो से कटे रहे?

एक तो मेरे पास भोजपुरी को लेकर जहा ज्यादा काम नहीं था.दूसरा ये कि मैं अपनी जगह ढूंढ रहा था .मुझे सम्मान पूर्ण पहचान चाहिए था.चुकी बचपन से मैं अपने लिए गीत कविता लिखता रहा हूँ.थोड़ा बहुत पढ़ा-लिखा और सीखा पढ़ा है.ऐसा मुझे लगता है.

२)तो क्या जो जगह ढूंढ रहे थे वो मिली?

एस ! मिली ,मैंने भोजपुरी में बहुत उल्टे सीधे गीत गाये .अब सिर्फ अच्छे गीत हो ही गाऊंगा.जिससे अपना और भोजपुरी का सम्मान बना रहे .क्योंकि मैंने लिखा है-सम्पूर्ण विश्व का है श्रृंगार ,ये भोजपुरी का संस्कार ,धरती पर रंगो की बहार, है भोजपुरी का संस्कार”.

३)अपने अच्छे लेवल के लिए और क्या कर रहे है?

मुझे लगता है मैं अपने आप में एक नयी दुनिया बना देने की संभावना लिए बना हूँ.मैं हर किसी के समझ की चीज़ नहीं हूँ.मुझे समझने के लिए थोड़ी विद्वता की जरुरत है.जो विद्वान है वो मुझे समझते है .मैं हलकी फुलकी पहचान के लिए नहीं.क्रेज के लिए काम कर रहा हूँ.इस कड़ी में मैंने बहुत सारी गीत – कविताये लिख डाली जो बारी-बारी से रिकॉर्ड होकर जनता में जारी हो रहा है .फ़िलहाल मैं बिहार के मुख्यमंत्री जी नितीश कुमार के कहने पर बिहार गौरव गीत लिखा और रिकॉर्ड किया .

”प्यारा है मेरा बिहार

दुलारा है मेरा बिहार

चमकते हिन्द के माथे का

सितारा है मेरा बिहार

४)सुमित जी आपने करीब-करीब हर पॉलिटिकल लीडर के लिए गाने लिखे और गाये है उसके बारे में बताइये ?

जी हाँ,सबसे पहले मैंने हिन्दू हृदय सम्राट बाला साहेब ठाकरे की श्रद्धांजलि गायी थी.

”शेरे दिल शेरे हिंदुस्तान बाला साहेब थे”

उसके बाद मैंने मोदी जी को प्रधान मंत्री बनाने के लिए गाना लिखा और गाया ”भारत को बचाना ही होगा -मोदी को लाना ही होगा.” से हिंदी प्रदेशो में बहुत सफलता दिलाई .फिर नेताजी मुलायम सिंह यादव,लालू प्रसाद ,राहुल गांधी और नितीश जी के तो बहुत सारे गाने लिखे और गाये.जो बिहार में बहुत चल रहा है.

५)आगे आप क्या करने वाले है?

मैं समाज को जगाने जोड़ने और समृद्ध करने के लिए लिखू और गाऊंगा ,और गा रहा हूँ .भोजपुरी में काम इज्जत और सम्मान पूर्ण आयेगा उसे करूँगा .बताने की जरुरत नहीं है खुद व् खुद चाहिए होता चला जायेगा .पैसे सबके पास होते है.लेकिन विद्वता नहीं.मेरा मानना है .

६)विद्वान सर्वत्र पूज्यते ?

वैसे भोजपुरी में मेरी एक नई फिल्म बन रही है.प्रोडूसर रवि कुमार सिंह की ”तूफान ” वो कर रहा है.नवरात्री में माता रानी के गाने आ रहे है -‘सबसे प्यारा है तेरा जयकारा माँ’.फ़िलहाल मैं हिंदी के ही जयादा गाने लिख और गा रहा हूँ.भोजपुरी गानो का स्तर लोगो ने गिरा दिया है ,जिसे ठीक करने की जरुरत है.मुझसे जितना हो सकेगा ,करूँगा .मगही के गीत-संगीत को भी मुझे मजबूत करना है.पहले मेरे पास व्यवस्था नहीं थी लेकिन आज मैं हर तरह से मजबूत हूँ,और संतुस्ट भी .मेरी दुनिया मुझे मिल गयी है जहा से मुझे अपनी सोच को फ्लेस करना है .आपके माध्यम से मैं कुछ लोगो को सन्देश देना चाहता हूँ जिन्होंने ठीक से पहचाना नहीं.और मुझ जैसे मासूम कवि हृदयी कलाकार का काफी नुकसान किया. ”तुम मसलो मासूम कलियों को ,हम हार बनाएँगे ,

कुछ कागज और कलम को ही हथियार बनाएँगे .”

बस आवाम का आशीर्वाद बना रहे.कुछ हलके -फुल्के लोगो का रहे या न रहे.मैं एक योद्धा हूँ और क्रांति करने के लिए मेरा जन्म हुआ है.