मोरेसियस के अवार्ड समारोह में किया गया फरेबी

भोजपुरी इंडस्ट्री में पहली बार अवार्ड के नाम से कलाकारों को बेवकूफ बनाया गया.भोजपुरी कलाकार दिल से बहुत नादान होते है कुछ स्वार्थी लोगो ने इसी नादानी का फायदा अलग-अलग मकसद से किया करते है .उल्लेखनीय है की ६ जून को मोरेसियस कथित रूप से भोजपुरी अवार्ड समारोह किया गया .इस समारोह में भोजपुरी के गिने -चुने ५ लोगो को ही न्योता दिया गया था .जिन्हे न्योता मिली थी उन्हें भी पता नहीं था की उनके साथ में भी फरेब किया जाएगा .सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार मोरेसियस गए हुए कलाकारों को भोजपुरी अवार्ड समारोह कहकर ले गए लेकिन मोरेसियस के लोगो में यह कहा गया की यह बॉलीवुड का अवार्ड समारोह है जिसमे बॉलीवुड के नामी सितारे मौजूद रहेंगे .मोरेसियस के लोगो ने बॉलीवुड के सितारों को करीब से रूबरू होने के लिए मॉरीशस की राजधानी पोर्ट लुइस में भारी संख्या में लोगो का हुजूम इकठ्ठा हुए थे .जब इस समारोह का उत्घाटन शुरू हुआ जब उपस्तिथ लोगो में नाराजगी दिखाई दी क्योंकि उनके चहेते सितारे वह मौजूद ही नहीं थे .निराश लोगो में थोड़ी सी ख़ुशी भोजपुरी के सुपरस्टार रवि किशन और सुप्रशिद्ध अभिनेत्री रानी चटर्जी को देख कर हुई .उपस्तिथ लोगो को यह दो कलाकार छोड़ बाकी किसी को पहचानते तक नहीं थे.भोजपुरी फिल्म इंडस्ट्री में इस झूठे अवार्ड फंक्शन के चर्चे इतने तेजी से फ़ैल गया की कलाकारों को अब अवार्ड फंक्शन से ही नफ़रत होने लगी है .
भोजपुरी के कुछ कलाकारों का यह कहना है की आयोजक ने अपने ही बनाई हुई फिल्म के कलाकारों को बेस्ट अवार्ड देते हुए सम्मानित किया जब की कुछ अभिनेता और अभिनेत्री ऐसे भी मौजूद थे की उन लोगो ने साल के सबसे ज्यादा कामयाब फिल्मे दी है .इससे जाहिर होता है की यह अवार्ड समारोह एक सोची-समझी रणनीति थी क्योंकि जिनके फिल्म के कलाकारों को अवार्ड दिया गया अवार्ड समारोह भी उन्होंने ही आयोजित किया थे .’कहते है न घर का सामान घर पर ही रखो ,बाहर क्यों देना ‘लोगो का यह भी कहना है की यह अवार्ड समारोह नहीं था बल्कि आयोजको के फिल्मो का प्रमोशन समारोह था . उपस्तिथ कलाकारों में से एक ने यह भी कहा की अवार्ड समारोह में सिर्फ ३ फिल्म का ही जिक्र किया गया था .कुछ डायरेक्टर -प्रोडूसर का कहना है की उन्हें पहले से ही यह आभास हो चूका था की उनके साथ फरेब हो सकता है इसलिए उनलोगो ने अपनी फिल्म को लेकर इस कथित अवार्ड समारोह में नहीं गए .इस बारे में जब रानी चटजी से पूछ गया तो उन्होंने इस बारे में कुछ भी कहने से इंकार कर दिया.