‘डर्टी माॅडल’ अच्छी ओपनिंग के साथ प्रदर्शित हुई

डी.पी. फिल्म प्रोडक्शन द्वारा प्रस्तुत निर्देशक संदीप गुप्ता की हिन्दी फिल्म ‘डर्टी माॅडल’ इसी शुक्रवार को यूपी व दिल्ली क्षेत्रों में अच्छी ओपनिंग से साथ प्रदर्शित हुई। यह फिल्म एक पैसों की हवसवाली माॅडल/युवती की कहानी है, जो पैसों के लिए ही संबंध जोड़ती है और पैसों की अतृप्त प्यास की पूर्ति के लिए किसी को भी लात, मारकर आगे बढ़ती जाती है। रिश्ते और व्यवहार उसके लिए हथियार स्वरूप है। जिसको सीढ़ी बनाकर ऊपर चढ़ती है। ऊपर पाँव रखते ही उस सीढ़ी को गिरा देना उसकी फितरत बन गयी है। इस अनबुझी प्यास का अंत कैसे होता है और कैसा होता है- यही है- ‘डर्टी माॅडल’ का क्लाईमैक्स। इस फिल्म में शीर्षक भूमिका अंकिता शर्मा नें निभायी है। मुकेश त्रिपाठी उर्फ मैक एक संघर्षशील निर्देशक बने हैं और उस लड़की (शालिनी) को बेइंतहा प्यार करते हैं और अंततः उन्हें प्यार की कीमत चुकानी पड़ती है। शालिनी की बड़ी शादीशुदा बहन, जो बिल्कुल ही उससे अलग है, सीधी है, सरल है। उस भूमिका को शिजू कटारिया ने निभाया है। शालिनी जिसके जाल में फंसती है-उसे प्रवीण ने अभिनीत किया है।
‘‘डर्टी माॅडल’’ के सह निर्माता धु्रव पाल और मुस्कान चैहान है। गीत-संगीत शैलेंद्र जाधव का है। एक गीत अरूण सिंह का भी है। फिल्म का संगीत कर्णप्रिय है और वह राज फिल्म की याद दिलाता है। दर्शन सिंह का एक्शन और मनीष के. व्यास का छायांकन है। नाम से भले यह उत्तेजक विषय वाली फिल्म लगती है, मगर यह एक उद्देश्यपूर्ण फिल्म है, जिसमें पैसे की बुरी लत और संबंधों का खोखलापन देखने को मिलता है। सीजू कटारिया, अंजली शर्मा व अंकिता शर्मा और इनके साथ है- महेश त्रिपाठी, प्रवीण यादव, निर्मल सोनी, केतन और गगन गुरूव।