फिल्म डायरेक्टर लोम हर्ष ‘यूथ अम्बेसडर फर पीस’ अवार्ड से हुए सम्मानित

इंडो ऑस्ट्रेलियन डायरेक्टर लोम हर्ष को दिल्ली पार्लियमेंट में यू. पी. एफ. द्वारा हुई इंटर रीलिजियस कांफ्रेंस में ‘यूथ अम्बसेडर फॉर पीस’ अवार्ड से सम्‍मानित किया गया। उन्‍हें यह अवार्ड शांति और मनवता पर सिनेमा बनाने व समाजिक तौर पर असाधारण योगदन देने की वजह से चुना गया है। शांति और मानवता का संदेश देती उनकी तीन फिल्‍में ‘ये है इंडिया’, ‘चिकन बिरयानी 1’और ‘चिकन बिरयानी 2’ को फिल्‍म क्रिटिक्‍स ने भी खूब सराहा है।

इस कांफ्रेंस में भारत सरकार में अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री माननीय मुख्तर अब्बास नकवी और केंद्रीय मंत्री किरण रिजीजु समेत देश – विदेश के कई नामचीन चेहरे शमिल हुए। विश्व से अनेक देशों के युनाइटेड नेशन से युनिवर्सल पीस फेडरेशन के कर्यकर्ता भी शमिल हुए। कांफ्रेंस में चीफ गेस्ट यु. पी. एफ. के प्रेसिडेंट डॉ. थोमस जी वलश और डॉ. चुंग सिक योंग थे। मालूम हो कि लोम हर्ष इंडो ऑस्ट्रेलियन डायरेक्टर हैं। सिनेमा के प्रति अपने जुनून और देश प्रेम के लिये वे ऑस्ट्रेलिया छोड के वापस इंडिया आये थे। उन्होंने अपनी फिल्मी सफर की शुरुआत ‘ये है इंडिया’ से की थी, जो बाद मे फ्रांस के कांस फेस्टिवल तक गई और अमेरिका मे बेस्ट फिल्म ओर बेस्ट डायरेक्टर का अवार्ड जीता।

इस फिल्म मे विश्व शांति के मुद्दे को उठाया गया है। हाल ही में उनकी एक और फिल्म चिकन बिरयानी 2 का ट्रेलर लांच किया गया है। इस फिल्म मे भी कश्मीर के मुद्दें को बडी ही खूबसूरती से पेश किया गया है और फिल्म के अंत मे दोनों देशो को शांति एंव भाईचारे से रहने का संदेश दिया है। कश्मीर के मालिकाना हक़ जैसे ज्वलनशील मुद्दे का समाधान बड़े ही बेहतरीन तरीके से दिखाया है। इनकी ये फिल्म भी इंसनियत ओर शांति का संदेश देती है।

लोम हर्ष ने फिल्मों के अलावा म्यूज़िक विडियो ‘मैं उडना चाहती हूं’ भी किया है, जिसमें वीमन इम्पावरर्मेंट को दिखाया है। इस विडियो को अब तक सोशल मिडिया पर 1.5 करोड से भी ज़्यदा बार देखा जा चुका है। लोम हर्ष ने बहुत ही कम समय में अपने सिनेमा से अपनी एक अलग पहचान बनाई है। वे देश विदेश के नामी गरामी फिल्म महोत्‍सव में अब तक 25 से ज़्यादा अवार्ड ले चुके हैं।