भोजपुरी सिनेमा में बड़ी सोच की नई तारिका पायस पंडित

भोजपुरी सिनेमा के सुनहरे दौर में नित नई उपलब्धियाँ जुड़ती ही जा रही हैं। एक ओर जहाँ भोजपुरी बोली (भाषा नहीं कह सकता हूँ क्योंकि अभी तक संविधान की आठवीं अनुसूची में भोजपुरी को भाषा का दर्ज़ा नहीं मिल पाया है ) बोलने वाले देश विदेश में लगभग २० करोड़ लोग हैं। वहीं भारत के अलावा विदेश में भी लगभग ३० से अधिक देश में भोजपुरी भाषी लोग रहते हैं। ऐसे में भोजपुरी सिनेमा का विस्तार और व्यवसाय क्या होना चाहिए, यह बहुत ही गहन विचार विमर्श की बात है। इसी विचार धारा को दिशा देने और भोजपुरी सिनेमा को उच्चतम दर्ज़ा दिलाने हेतु भोजपुरी सिनेमा से अपनी फ़िल्मी करियर की शुरुआत कर रही हैं अभिनेत्री पायस पंडित। ये भोजपुरी फिल्मों के व्यवसाय के मौजूदा हालात से द्रवित फिल्म निर्माता संजय निषाद व गौतम निषाद द्वारा निर्मित की जा रही भोजपुरी फिल्म टकराव में बतौर नायिका सशक्त भूमिका निभा रही हैं। ब्लू फॉक्स मोशन पिक्चर्स प्रस्तुत, निषाद प्रोडक्शन एवं जी. एम. एल. इंटरटेनमेंट प्रा. लि. के बैनर तले निर्मित की जा रही इस फिल्म का निर्देशन कर रहे हैं सुलझे हुए फिल्म निर्देशक इकबाल बक्श। मुख्य भूमिका में पायस पंडित के साथ अमरीश सिंह, सोमलाल यादव, काजल निषाद, संगीता तिवारी, नागेश मिश्रा, प्रकाश जैस, लल्लन सिंह, जे पी सिंह, किरण मल्लाह, स्वीटी सिंह, धीरज सिंह, पुष्पक चावला, शिवम शर्मा, राकेश कुशवाहा तथा सुशील सिंह हैं।
उत्तर प्रदेश के वाराणसी से सटे हुए मिर्ज़ापुर में जन्मी तथा दिल्ली में पली बढ़ी एवं हिन्दी साहित्य से एम. ए. की पढ़ाई पूरी कर पायस पंडित मॉडलिंग व अभिनय के क्षेत्र में अपना करियर बना रही हैं। स्मिता थियेटर ग्रुप में अभिनय की बारीकियाँ सीखी हैं। दिल्ली में लक्मे फैशन वीक, गुजरात फैशन वीक में अपने हुनर एवं सौंदर्य का जलवा बिखेर चुकी हैं। भोजपुरी फिल्म टकराव शूटिंग पूरी करने के साथ ही साथ फिल्म लोहा पहलवान में भी नज़र आने वाली है। इस फिल्म में इनके हीरो सुपर स्टार पवन सिंह हैं। इसके अलावा और भी कई फिल्मों की शूटिंग करने वाली हैं।
सवाल के जवाब में पायस पंडित ने कहा कि हिन्दी के बाद भोजपुरी ही है जो देश विदेश अपनी खास जगह बनायी है। इसके बावजूद भी भोजपुरी फिल्मों को अच्छी नजरिये से नहीं देखा जाता है। मैं जो भी भोजपुरी फिल्म करुँगी उसमें हमेशा मेरी यही कोशिश रहेगी कि अच्छी भोजपुरी फिल्म निर्माण हो ताकि हर वर्ग के दर्शक उसे देखें व सराहें। अच्छी भोजपुरी फिल्म का निर्माण होगा तभी अंतर्राष्ट्रीय व्यवसाय भी बढ़ेगा भोजपुरी सिनेमा का। मेरा भोजपुरी से बहुत लगाव है इसीलिए मैं दिल्ली से मुंबई बस गयी हूँ और भोजपुरी सिनेमा से ही अपना फ़िल्मी सफर शुरू कर रही हूँ। मैं शूटिंग के समय यह देख रही हूँ कि हमारे फिल्म निर्माता संजय निषाद एवं उनके सहयोगी तथा फिल्म निर्देशक इक़बाल बक्श सहित पूरी टीम उतनी ही मेहनत कर रहे हैं जितना अन्य भाषा की फिल्मों में मेहनत की जाती है। भोजपुरी सिने इंडस्ट्री से मैं यही अपील करती हूँ कि हम सभी खुद अपना और भोजपुरी सिनेमा का सम्मान करें, लोग अपने आप ही भोजपुरी सिनेमा को उच्च शिखर पर पंहुचा देंगे।