अर्पिता माली चुनौतीपूर्ण भूमिका में हिन्दी फिल्म ये कैसा पेशा में

किसी भी किरदार को सहज ही जीवन्त कर देने में माहिर चर्चित अदाकारा अर्पिता माली शीघ्र ही सिनेमा के रुपहले परदे पर अन्धविश्वास का पोल खोलती हुई गुरु माँ की सशक्त भूमिका में दिखाई देंगी. गुरु माँ का किरदार निभाना अर्पिता के लिए बहुत ही चुनौतीपूर्ण रहा है. माँ सुदामा प्रोडक्शन के बैनर तले निर्मित की गई हिन्दी फिल्म ये कैसा पेशा अति शीघ्र प्रदर्शित होने वाली है. यह फिल्म धर्मं के नाम पर पाखण्ड एवं समाज की भोली भाली जनता को गुमराह करने वाली मेट्रो शहर में रहने वाली गुरु माँ पर आधारित है. इस फिल्म में अर्पिता का किरदार सकारात्मक एवं नकारात्मक है, जो धर्म के नाम पर दरबार में रासलीला रचाती है और महिला सेविकाओं से धंधा करवाती है. इस फिल्म का प्रोमो यू ट्यूब पर रिलीज कर दिया गया है. जिसे देखकर यह कहा जा रहा है कि यह फिल्म विवादित गुरु माँ पर आधारित है. फिल्म के निर्माता सुरेश कुमार मालाकार इस बात से इंकार करते हुए कहते हैं कि मेरी फिल्म ये कैसा पेशा किसी की निजी जिन्दगी पर आधारित नहीं है. हमारी फिल्म की कहानी सर्वथा काल्पनिक है. जिससे समाज को एक सन्देश मिलेगा कि ढ़ोंगी और प्रपंची माँ एवं बाबाओं से दूर रहें.
धनबाद में पली बढ़ी फिल्म की नायिका अर्पिता माली कहती हैं कि जब मुझे यह किरदार निभाने के ऑफर दिया गया तो मैंने फौरन स्वीकार कर लिया. इसमें मुझे अपने अभिनय का जौहर दिखाने के साथ साथ समाज को सन्देश भी देने का मौका मिला है. यह समाज में धर्म के नाम पर होने वाले ढोंग और यौन शोषण को उजागर कर समाज को सन्देश देने वाली फिल्म है. इस फिल्म को लेकर मैं बहुत उत्साहित हूँ. उम्मीद है दशकों को भरपूर सहयोग मिलेगा.
फिल्म ये कैसा पेशा के रिलीज के पहले फिल्म समीक्षकों को दिखाया गया. उनकी प्रतिक्रिया काफी उत्साहित करने वाली है, जिससे फिल्म के निर्माता व नायिका भी उत्साहित हैं. फिल्म का निर्माण उम्दा तकनीकी से किया गया है, जो समाज को सन्देश देने वाली फिल्म साबित होगी.