Abhay Tiwari ने कहा की एक Actor का धर्म है उनके अपने Acting में रच बस जाना

रुद्रा फिल्म्स के बैनर की भोजपुरी फ़िल्म ‘दिल तुझ पर क़ुर्बान’ से अपने फिल्‍मी करियर की शुरूआत करने वाले अभिनेता अभय तिवारी का मानना है कि सिनेमा हो या रंगमंच, अपने किरदार में रच – बस जाना ही एक अभिनेता का धर्म होता है। एक न्‍यूकमर के नाते उन्‍हें इस बात की बखूबी समझ है। अभय तिवारी कहते हैं कि फ़िल्म ‘दिल तुझ पर क़ुर्बान’ उनके लिए खास है। पहली ही फिल्‍म में रितेश पांडेय जैसे इंडस्ट्री के लोकप्रिय गायक और अभिनेता के साथ काम करने का मौका मिला है और राजू चौहान के निर्देशन में बहुत कुछ सीखने को भी मिला।

उन्‍होंने बताया कि फिल्‍म में उनकी भूमिका नकारात्‍मक है, लेकिन उन्‍होंने इस फिल्‍म को सहर्ष स्‍वीकार किया और अब उन्‍हें फिल्‍म से काफी उम्‍मीदें हैं। वे कहते हैं कि फ़िल्म दर्शकों के दिल को छू लेने वाली फिल्म है। फ़िल्म के गाने और संवाद भी बेहद रोमांटिक ही है। फ़िल्म की कहानी और स्क्रीनप्ले दर्शकों को फ़िल्म से जोड़ने का काम करेगी। इसलिए उम्मीद है दर्शक इस फ़िल्म को खूब प्यार देंगे। उन्‍होंने रुद्रा फिल्म कंपनी को बनाने के मकसद के बारे में भी बताया – भोजपुरी सिनेमा इंडस्ट्री को और समृद्ध बनाना। इंडस्ट्री अभी बहुत अच्छा कर रही है। उन्‍होंने संकल्प लिया कि रुद्रा फिल्म कंपनी अपना बेस्ट देगी और लगातार फिल्में बनाएगी। फिलहाल इस बैनर से बैक टू बैक 5 फिल्में आने वाली हैं।

फ़िल्म ‘दिल तुझ पर क़ुर्बान’ की निर्माता अदिति राय हैं और निर्देशक राजू चौहान हैं। पटकथा राकेश त्रिपाठी ने लिखी है। फ़िल्म के लिए विनय बिहारी और सुमित चंद्रवंशी ने मिलकर कुल 8 गाने लिखे हैं, जिनमें संगीत मशहूर संगीतकार मधुकर आनंद ने दिया है। पीआरओ संजय भूषण पटियाला हैं और डीओपी नंद लाल चौधरी हैं। एक्शन दिलीप यादव और कोरियोग्राफ़ी संजय कोर्वे का है। फ़िल्म में रितेश पांडेय और अभय तिवारी के साथ मोनिका राय, अमित शुक्ला, अयाज़ खान, दीपक सिन्हा, समर्थ चतुर्वेदी, सोनिया मिश्रा, आयुषी तिवारी और संगीता तिवारी भी हैं।